गुरुवार, 11 जून 2009

मेरी गर्ल फ्रेंड की शायरी

दिल से दिल लगा कर तो देखो
हमारी यादो में आंसूं बहा कर तो देखो
समस तो किया कॉल भी करुँगी
एक बार मेरे मोबाइल का बिल चुका कर तो देखो

1 टिप्पणी:

  1. अमितजी

    पिछ्ले कुछ दिनो से भडास नामक ब्लोग पर आपके विचारो से अवगत हो पा रहा हू। आप लिखते अच्छा है। आपके दो दिन पुर्व भडास पर चित्रो सहित किसी मन्डल के बारे मे व्यगात्मक चित्रो वाला आलेख छपा था मैने उस पर विचार भी भेजे थे किन्तु शायद मोडर्टर ने आपके उस लिख को निकाल दिया है। मेरी टीपणी भी उसी के साथ शहिद हो गई लगता है। आपका ईमेल पत्ता भेजे।

    महावीर बी सेमलानी

    उत्तर देंहटाएं