मंगलवार, 9 जून 2009

मत करना प्यार ..............

किसी की खातिर मुहबत की इन्तहा करदो
पर इतना भी नही का उस को खुदा करदो
मत टूट का चाहो किसी को इतना
के अपनी ही वफाओं से बेवाफा करदो

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें