गुरुवार, 30 जुलाई 2009

पथर पर खुदी है ये मेरी शायरी













कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें