रविवार, 12 जुलाई 2009

एक नम्बर का झूठा

एक दुकान के बाहर लिखा था - इन्सानों की तरह बात करने वाला कुत्ता बेचना है, सम्पर्क करें।

एक आदमी ने दुकानदार से कहा - खरीदने से पहले मैं उस कुत्ते को देखना चाहता हूं।

दुकानदार आदमी को कुत्ते के पास ले गया। आदमी ने कुत्ते से पूछा - क्यों भई, क्या कर रहे हो ?

कुत्ता बोला - कुछ खास नहीं । बस इसकी दुकान की रखवाली करता रहता हूं। वैसे पहले मैं अमरीकी सरकार के खुफिया विभाग में था। मैंने कई बड़े बड़े आतंकवादियों को पकड़वाया था। उसके बाद मैं ब्रिटेन के रक्षा विभाग में तैनात कर दिया गया। अब वहां से रिटायर होकर इधर आ गया हूं।

आदमी ने दुकानदार से पूछा - इतने गुणवान कुत्ते को आप बेचना क्यों चाहते हैं ?

दुकानदार ने जवाब दिया - अरे आप इसकी बातों का भरोसा मत कीजिए।कमीना एक नम्बर का झूठा है













कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें