बुधवार, 29 जुलाई 2009

अमित की कलम से





अब इस चाहत का क्या करू ,
हर वक्त तेरी जरूरत हो गई ,

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें