शुक्रवार, 17 जुलाई 2009

अमित की शायरी - दिल का हाल उन के बाद

कभी हम भी उनसे निगाहें मिलाया करते थे ,
उन्हें राहो में छेड़ जाया करते थे …
खवाब देखते थे , उन्हें अपने बहो में भरने की .
लेकिन उनके मम्मी पापा से कतराया करते थे …

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें