मंगलवार, 14 जुलाई 2009

अमित जैन का ( जोक्पीडिया)

संता बंता से- चलते चलते कहीं रूक जाता हूँ मैं...
बैठे बैठे कहीं सो जाता हूँ मैं...
क्या यह‍ी प्यार है...
क्या यह‍ी प्यार है....।

बंता- नहीं यार! डॉक्टर के पास जा तुझे कमजोरी आ गई है।॥

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें