रविवार, 12 जुलाई 2009

एक और हसी

उपदेशक - ''तुम लोगों को मालूम है कि एक बार के चुम्बन से चालीस हजार प्राणघातक कीटाणु एक दूसरे के मुख में चले जाते हैं।''
प्रेमी युगल - ''जी, पर उसके लिये हम चालीस लाख बार मरने के लिये तैयार हैं।''

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें