रविवार, 12 जुलाई 2009

अमित की भूली बिसरी शायरी , आज मेरे प्यार ने मुझ को दी......


मै किसी को हु चाहता ,
पर नही जनता ,
कैसे है उसे बताना ,
अगर कोई है इस बात को जनता ,
तो मुझ को जरूर बताना ,
अगर हो गया मेरा कामयाब उस को पटाना ,
तो मै जरूर दुगा उस को उस की मनमर्जी का नजराना ,
भूल न जाना ,
आप को जरूर है मेरी नया को पार लगना ,
नया नया शायर हु बना ,
उस की मोहबत मे ,
माफ़ करना यदि लिखा हो कोई ग़लत ,
अपने दिल का फ़साना .............

7 टिप्‍पणियां:

  1. koshish karye kamyaab honge ... pyaar bhi mile aur shayar bhi ban jaayiye ..... achcha lage ga hamein bhi...

    उत्तर देंहटाएं
  2. pyar or shair na bn sakey to kisi ka baap jutty khaney se nhi rok skta

    उत्तर देंहटाएं
  3. jane.kyu.log.hame.bhul.jate.hai.kuch.pal.sath.rehte.ke.bad.dur.chale.jate.hai.sach.hi.kehte.hai.ke.sagar.milne.ke.bad.lod.logbarish.ko.bhul.jate.hai

    उत्तर देंहटाएं
  4. suraj



    i love you priyanka
    me priyanka se bahut pyar karta hun
    lekin wo nahi karti mujhse pyar sayad wo kabhi pathle

    उत्तर देंहटाएं