शनिवार, 8 अगस्त 2009

भगवान

एक दिन हारकर,
कमजोर पड़कर,
मैं तेरे घर की सीढ़ियों तक गया था भगवान,
तू सो रहा था,
मैं लौट आया।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें