बुधवार, 9 सितंबर 2009

हसी की खुराक -भाग २

बारिश के दिनों में संता छतरी लेकर बाहर गया, उसकी छतरी में बड़ा सा छेद था।

संता (बंता से)- ओए, तेरी छतरी में छेद क्यों है?

बंता- अरे, ये छेद मैंने ही किया है, ताकि बारिश बंद होने पर मुझे पता चल सके।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें