शुक्रवार, 16 अक्तूबर 2009

हसी की खुराक -11

जजः तुम्हारी कोई अंतिम इच्छा हो तो बताओ ?
अपराधीः हुजूर , मेरी जगह आप लटक जाओ।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें