शनिवार, 21 नवंबर 2009

दिल का दर्द -25

प्यार की बात ना करो ए दोस्तों ,
बहूत ही जखम खाए है हमने इसमें .
इसकी राह में चल कर तो देखो दोस्तों ,
कांटे ही कांटे बिछाए है खुदा ने इसमें .

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें