बुधवार, 11 नवंबर 2009

अमित की शायरी

जो लोग प्यार को गम समझत है,
वो प्यार को कम समझते है,
दर्द कितना होता है जुदाई मे वो,
हम समझते है,
हर हाल मे हँसते रहते है ,
ये क्या आप कम समझते है ,
टूटे हुए दिल को ले लबो पर गुनगुनाते रहते है ,
इसी को हम प्यार समझते है

2 टिप्‍पणियां:

  1. जो लोग प्यार को गम समझत है,
    वो प्यार को कम समझते है,
    दर्द कितना होता है जुदाई मे वो,
    हम समझते है,
    हर हाल मे हँसते रहते है ,
    ये क्या आप कम समझते है ,
    टूटे हुए दिल को ले लबो पर गुनगुनाते रहते है ,
    इसी को हम प्यार समझते है

    उत्तर देंहटाएं