रविवार, 8 नवंबर 2009

हसी की खुराक

मुन्ना: भाई, अगर दुशमन का पनडुब्बी आयेंगा तो उसे कैसे मारेंगे?
सरकिट: भोत सिंपल है भाई, जाके बस दरवाजे पर नॉक करने का, वो उसे खोल देंगे।


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें