शनिवार, 14 नवंबर 2009

अमित का दर्द ,शायरी के साथ

उनका वादा है की वो लौट आएंगे
इसी उम्मीद पैर हम जिए जायेंगे
यह इंतज़ार भी उन्ही की तरह प्यारा है
कर रहे थे ,कर रहे हैं और किए जायेंगे



अमित जैन

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें