रविवार, 15 नवंबर 2009

आप के लिए शिष्टाचार का क्या मतलब है ?

खचाखच भरी बस में एक महिला संतुलन नहीं रख पा रही थी। वह अपने साथ खड़े आदमी पर झुकी जा रही थी। आखिर तंग कर उस आदमी ने पास की सीट पर बैठे 15-16 साल के एक लड़के से कहा : ' क्या तुम इस देवी जी को अपनी सीट दे सकते हो ?'

लड़के ने बात सुनी अनसुनी कर दी। उस आदमी ने जेब से दस रुपए का नोट निकाल कर लड़के को दिया तो लड़के ने थैंक यू कहते हुए सीट खाली कर दी। आदमी ने महिला से कहा : ' बैठिए। ' ' नहीं आप बैठिए ,' महिला बोली। ' जी , मैं नहीं बैठना चाहता। दरअसल मैं इस लड़के को बताना चाहता था कि इस दुनिया में शिष्टाचार नाम की भी कोई चीज होती है। ' महिला ने सीट पर बैठते ही लड़के से कहा : ' बेटे , इस भले आदमी को धन्यवाद दो। '
' मैं पहले ही थैंक यू कह चुका हूं ममी ' लड़का बोला।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें