शनिवार, 14 नवंबर 2009

सितम -दिल का दर्द

एक सितम और मेरी जान अभी जान बाकी है ,
.
.
.
.
.
.
.
.

दिल मैं अब तक तेरी उल्फत का निशान बाकी है .

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें