मंगलवार, 22 दिसंबर 2009

२ लाइन दिल की

वो मिलती है रोज हसते हुए हमसे ,
आरजू ए दिल को छुपा कर हमसे

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें