गुरुवार, 10 दिसंबर 2009

अमित की शायरी मस्ती मे

हर पल चलना होता है,
हर पल संभालना होता है.
ज़िंदगी आरामगाह नहीं,
संघर्ष करके जीना होता है
.

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें