बुधवार, 13 जनवरी 2010

एक फूल की कहानी



मुझे एसे ही खिलने दो ,
न मुझ को तोड़ो ,
जिन्दा रहने दो........

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें