बुधवार, 13 जनवरी 2010

अमित की शायरी


एक हसरत पूरी होती नहीं,
कई और पैदा हो जाती हैं.
अपनों को पूरा अपना ना सके,
औरों पे दिल आ जाता है.


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें