मंगलवार, 16 फ़रवरी 2010

दर्द दिल का - शेर नंबर 101

Pouty
मुर्दों की बस्ती अज़ब ग़ज़ब है,
यहाँ की हर चीज़ जलती है.
दिल की यहाँ कोई कीमत नहीं,
बुझे दिल भी जलाए जाते हैं.


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें