गुरुवार, 25 फ़रवरी 2010

शायरी


शायरी उससे पसंद होती है
जिसके सीने में दिल धडकता हो
जिसका दिल खुद के लिए नही
किसी और के लिए तडपता हो
जो पाने और खोने की हद से निकल चुका हो
जिसके लिए उसका प्यार ही खुदा हो

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें