शनिवार, 13 फ़रवरी 2010

दीवाना


किसी के दिल का दर्द किसने देखा हे,
जिस-ने भी देखा हे, सिर्फ़ चेहरा देखा हे.
दर्द तो तन्हाइओ-मे होता हे,
और तन्हाइओ-मे भी,
लोगो-ने हमे हस्ता देखा हे.


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें