शनिवार, 13 फ़रवरी 2010

छोटा सा शेर छोरी मनाने के लिए


तू नहीं है तो क्या,
तेरा रुमाल तो मेरे पास है.
तू नहीं आई तो क्या,
तेरे आने की तो आस है.


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें