मंगलवार, 16 फ़रवरी 2010

उधार की सासे


हर वक़्त हम तुम्हे याद करते है,
जिन जिन के साँसे हम उधार लिया करते है,
आप को क्या पता मर कर भी हम,
तुम्हारी उमीद मैं साँसे लिया करते है.







कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें