रविवार, 21 मार्च 2010

लड़की पटाने का शेर नंबर -११



दर्द ही दर्द चुभता है आँखों में..
आँसुओं में भी जलन सी महसूस होती है..
ज़िंदगी खत्तम हुए एक अरसा हो चला..
बस दर्द ही है जो धड़कनो में बहता है..



कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें