सोमवार, 29 मार्च 2010

एक नन्ही कली


एक नन्ही कली कहे पुकार के ,
मत मारो मुझे जान के ,
मुझसे भी थोडा प्यार करो ,
जीने का मुझ को भी कुछ अधिकार दो

                                                                        अमित जैन

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें