गुरुवार, 8 अप्रैल 2010

गीला कागज -5





उसको सोचा तो हर एक सोच में खुश्बू उतरी
उसको लिखा तो हर एक लफ्ज़ महकते देखा

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें