गुरुवार, 8 अप्रैल 2010

गीला कागज -6


दिल ने प्यार सीखा पर ना सीखा इज़हार
दिल ने ऐतबार सीखा पर ना सीखा इनकार
दिल ने मुस्कुराना सीखा और किया सब कुछ स्वीकार
दिल ने हर बार कुछ सीखा पर ना मिला उसे उसका प्यार

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें