बुधवार, 21 अप्रैल 2010

प्यार से --------

पोंछ कर अश्क अपनी आँखों से मुस्कुअराओ तो कोई बात बने,
सर झुकाने से कुछ नहीं होगा सर उठाओ तो कोई बात बने"

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें