गुरुवार, 15 अप्रैल 2010

अमित की शायरी -



आती है याद तुम्हारी
रोता है दिल हमारा
गिरते है आँसू हमारे
आता है नाम तुम्हारा

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें