रविवार, 25 जुलाई 2010

50/= के नोट से पप्पी तो नहीं , चाटा जरूर मिल गया

अरे भयो आज आपको एक मजेदार किस्सा सुनाता हू , मेरे दोस्त  छगनलाल को टीवी का बहुत शोंक है , बेचारा हर बात को सच समझ लेता है ,एक दिन बेचारे ने  MAC DONAAAALD  का एक विज्ञापन बड़े शौक से देखा , और बड़ा खुश हुआ ,
लड़की की पप्पी और वो भी 50/= में . भाई ने किसी तरह अपने मोहल्ले की कन्या पटी और फिर उसे  MAC D   ले कर चला गया , वह बड़ी ही खुशी से अपनी मेहनत के 100/=  में २ BURGER  खुश होते हुए लिए , बस फिर क्या था , वो तो सपनो में उड़ने लगा , बस अब पप्पी मिलेगी , अब पप्पी मिलेगी , बस अब मिली ,अब मिली , लेकिन लड़की ने शायद वो विज्ञापन नहीं देखा था , वो तो खाने के बाद कड़ी हुई और बोली चलो , हमारे छगनलाल  को गुस्सा आ गया और बोला ,ये क्या हमने तुम्हे 50/= का  BURGER  खिलाया और तुमने पप्पी भी नहीं दी , और ये क्या हमारे छगनलाल को पप्पी तो नहीं ,चाटा जरूर मिल गया , अब आप ही बताए की यहाँ गलती किस की है , छगनलाल की , लड़की की , या MAC -D  की

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें