रविवार, 15 अगस्त 2010

आशिक की जबानी -२

गम की एक काली घटा ,
खुशियों के सूरज पर भारी होती है ,
अपनों की एक चोट ,
गैरो के हर सितम से करारी होती है .............................

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें