रविवार, 26 सितंबर 2010

मजिस्ट्रेट की पारखी निगाह का क्या कहना ?

'क्या बात है, बहुत परेशान नजर आ रहे हो?'
'क्या बताऊं, कुछ दिन पहले मैंने गलती से युवती का हाथ पकड़ लिया था। उसने शोर मचा दिया। आज अदालत में पेश हुआ तो मैंने अपनी गलती मान ली। इस पर मजिस्ट्रेट ने 500 रुपए जुर्माना कर दिया।'
'तुम्हें किए की सजा मिलनी ही चाहिए थी।'
'हां, लेकिन उसके फौरन बाद वह लड़की अदालत में हाजिर हो गई। मजिस्ट्रेट ने उसे देखकर मुझ पर 500 रुपए का एक और जुर्माना कर दिया कि तुम जरूर नशे में थे।'

14 टिप्‍पणियां: