बुधवार, 25 मई 2011

दिल जब टूट जाये -2

कभी चिराग कभी रौशनी से हार गए
हम बदनसीब थे हर किसी से हार गए
अजीबखेल का मैदान है  ये दुनिया
जिसको जीत चुके थे उसी से हार गए

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें