गुरुवार, 29 सितंबर 2011

स्कूल लाइफ


एक ही कलर का ड्रेस पहन कर हम लगते थे कितने अच्छे ........
स्कूल लगता था पौल्ट्री फार्म और हम सब थे मुर्गी के बच्चे.................
मुझको समझ नहीं आया आज तक टीचर का ये फंडा...........
हमें बना देती थी मुर्गा..................
और खुद कॉपी पे देती थी अंडा ............

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें