सोमवार, 19 दिसंबर 2011

दिल की बात -तन्हाई की तकदीर

    जब मैं डूबा तो समंदर को भी हैरत हुई मुझ पर,

    कितना अज़ीब तन्हा शख्स है किसी को पुकारता ही नहीं....


                                                                                                 अमित जैन

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें