मंगलवार, 20 दिसंबर 2011

दिल की बात -उसने मेरा खून किया

हंस रही है बेवफा मुझको रुला देने के बाद,
चैन उसको आया  आज आया दिल जला देने के बाद,
बेरहम ने खिलखिला के डोर यारों काट दी,
पतंग वो मेरे प्यार की
अम्बर से मिला देने के बाद,
होश में होता तो मेरी जान यूँ जाती नही,
खून मेरा उसने किया
मुझको सुला देने के बाद.........................

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें