बुधवार, 21 दिसंबर 2011

शायरी -रोते रोते

होंगे बदनाम तो हो लेने दो,
हमको जी खोल के रो लेने दो.

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें