बुधवार, 21 दिसंबर 2011

कोई लिख गया ,और किसी को याद रह गया

वो शाख-ए-गुल पे रहें या
किसी की अरथी पर
चमन के फूल तो आदी हैं मुस्कुराने के.

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें