सोमवार, 19 दिसंबर 2011

दिल की बात -किस को बताऊ ?

अमित जैन
ना मिटा सका उसकी यादों को दिल से,

इसीलिए आज खुद को मिटा रहा हू,

प्यार करता था में कितना उससे,

आज उसको नही खुद को बता रहा हू .......................

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें