सोमवार, 19 दिसंबर 2011

दिल की बात -शिकायत

हमें  उनसे कोई रंज या कोई शिकायत नही,

शायद हमारी किस्मत में चाहत ही नही,

हमारी तक़दीर लिखकर मुकर गया वो रब्ब भी,

पूछा तो उसने भी जवाब दिया, यह मेरी लिखावट नही..............:


                                                                                            अमित जैन

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें