शनिवार, 26 मई 2012

शायरी

आया ही था ख्याल उन का ,
और आँखे छलक उठी ,
न जाने ये आंसू किसी की याद के कितने करीब थे

1 टिप्पणी: