सोमवार, 29 जुलाई 2013

ईमानदारी की सजा

ईमानदार अफसर को मुलायम के बेटे ने सस्पेंड किया

दिल्ली से सटे गौतम बुद्ध नगर से तेज तर्रार महिला एसडीएम दुर्गा शक्ति नागपाल को यूपी की अखिलेश सरकार ने सस्पेंड कर दिया है। यूपी के सरकारी प्रवक्ता के मुताबिक काम में लापरवाही के चलते कारवाई की गई है। गौरतलब है कि दुर्गा शक्ति नागपाल की पहचान एक तेज तर्रार अफसर की थी और हाल फिलहाल में उन्होंने खनन माफिया के खिलाफ मुहिम छेड़ रखी थी, लिहाजा इस कारवाई को लेकर सरकार के ऊपर सवाल खड़े हो रहे हैं।

सरकार ने आरोप लगाया है कि अतिक्रमण हटाए जाने के दौरान दुर्गा शक्ति ने एक धार्मिक स्थल को गिरा दिया जिस वजह से उन्हें हटाया गया है। लेकिन क्या इतनी छोटी बात के लिए किसी को सस्पेंड किया जा सकता है। दुर्गा अपनी ईमानदारी के लिए जानी जाती हैं। और उन्होंने अवैध खनन के खिलाफ मोर्चा खोल रखा था। लेकिन सरकार के इस फैसले से खनन माफियों की जीत जरुर हुई है।

दुर्गा बतौर ट्रेनी तैयार थीं, उनका अभी प्रोबेशन पीरियड चल रहा था। जबसे उनकी तैनाती हुई थी, तभी से खनन माफिया उनकी मुहिम को लेकर परेशान थे। लेकिन सरकार ने लापरवाही का आरोप लगाकर उन्हें सस्पेंड कर दिया। दुर्गा कई दिनों से लगातार नोएडा में अवैध खनन कर रहे डंपरों को पकड़ रहीं थी और कई लोगों को गिरफ़्तार भी कर चुकीं थी।


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें