बुधवार, 23 अक्तूबर 2013

शायरी -अगर दिल से पढो तो

जब  मन किया लिख दिया
दिल की बातों को कागज पर उतार दिया ,
तुम भी कुछ ऐसा ही करो ,
या तो मुझसे प्यार करो
या दिल को मेरी तरह बेक़रार करो


                                        तुम्हारा अमित

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें