मंगलवार, 21 जनवरी 2014

shayarशायर 19/1/14 (2)

अपनत्व की नींद से जागो मेरे भाई
कही वो अपना अपना कह के
तुझे लूट ना ले
लूट भी लिया तो कोई बात नहीं
कही रह गये खाली जेब
देख वो पहचानने मे भी नखरे करे .....

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें