मंगलवार, 21 जनवरी 2014

शायर shayari

लिखते लिखते मन की उलझने लिख डाली
पर उलझा हुआ मन
फिर भी ना सुलझ पाया

अमित

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें