मंगलवार, 21 जनवरी 2014

शायर shayr -19/1/14 (1)

मेरी मर्जी ना थी ओ तुने मेरी किस्मत मे लिखा
ओर अब मेरी किस्मत ही मेरी मर्जी हो गई

अमित

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें